समाजवाद बबुआ, धीरे-धीरे आई Monday, May 3 2010 

समाजवाद बबुआ, धीरे-धीरे आई

समाजवाद उनके धीरे-धीरे आई

हाथी से आई

घोड़ा से आई

अँगरेजी बाजा बजाई, समाजवाद…

नोटवा से आई

बोटवा से आई

बिड़ला के घर में समाई, समाजवाद…

गाँधी से आई

आँधी से आई

टुटही मड़इयो उड़ाई, समाजवाद…

काँगरेस से आई

जनता से आई

झंडा से बदली हो आई, समाजवाद…

डालर से आई

रूबल से आई

देसवा के बान्हे धराई, समाजवाद…

वादा से आई

लबादा से आई

जनता के कुरसी बनाई, समाजवाद…

लाठी से आई

गोली से आई

लेकिन अंहिसा कहाई, समाजवाद…

महंगी ले आई

गरीबी ले आई

केतनो मजूरा कमाई, समाजवाद…

छोटका का छोटहन

बड़का का बड़हन

बखरा बराबर लगाई, समाजवाद…

परसों ले आई

बरसों ले आई

हरदम अकासे तकाई, समाजवाद…

धीरे-धीरे आई

चुपे-चुपे आई

अँखियन पर परदा लगाई

समाजवाद उनके धीरे-धीरे आई ।

गोरख पाण्डेय जी द्वारा रचित(रचनाकाल :1978). उनकी अन्य रचनाएँ आप यहाँ पढ़ सकते हैं.

Advertisements

दो बजिया बैराग्य पार्ट फोर Wednesday, Apr 28 2010 

मैंने कभी भी पापाजी को गुस्से में चीखते-चिल्लाते नहीं देखा है.. वह भी एक आम इंसान हैं, और किसी और कि तरह गुस्साते भी हैं.. मगर घर में उनके गुस्से को ऊँची आवाज कभी नहीं मिली.. उनका चुप रह जाना ही अपने आप में सब कह जाता था.. जब तक इतनी समझ नहीं आयी थी कि पापाजी चुप हैं मतलब गुस्से में हैं, तब तक वह जरा सा आँख तरेर देते थे और बस इतना ही काफी होता था हमारे सहम जाने के लिए.. हमारे से मेरा मतलब हम तीनो भाई-बहन..

अपने घर का सबसे प्रोब्लेमेटिक बच्चा मैं खुद को ही मानता हूँ.. हर बात पर गुस्सा, हर चीज से खीज, पढाई लिखाई से भी हमेशा दूर.. मगर फिर भी पापाजी का दुलारा.. पता नहीं कब तक लाड़-छिड़ियाते रहा हूँ.. अब पापाजी पर तो नहीं लेकिन जब घर जाता हूँ तो मम्मी पर जम कर लाड़-छिड़ियाता हूँ.. घर में पापाजी से सबसे ज्यादा पिटाई भी मुझे ही लगी है, मगर उसे अब आंकलन करता हूँ तो उसे गुस्से में की गई पिटाई नहीं पता हूँ.. एक नियंत्रित मात्र डर पैदा करने के लिए एक सजा ही पाता हूँ.. और जब भी पिटाई लगी तो वो सिर्फ दीदी को मारने के एवज़ में.. वैसे पिटाई कि बात करें तो भैया को सबसे अधिक पिटाई लगी है.. मगर पापाजी से नहीं, मम्मी से.. अभी याद करने बैठा हूँ तो एक वाकया भी ऐसा याद नहीं आ रहा जब भैया को पापाजी से पिटाई लगी हो(कल सुबह ही पापाजी से लड़ने वाला हूँ कि आप भैया को कभी नहीं मारे, आज मारिये.. भैया को पिटाई खिलाना है).. 🙂

उनका एक तकिया कलाम जैसा ही कुछ हुआ करता था.. वो हमेशा हम बच्चों के बारे में कहते थे कि “मेरा बैल है, हम कुल्हारिये से नाथेंगे, कोई क्या कर लेगा?”.. आज जब मैं अपने भतीजे के बारे में यही कहता हूँ तो बोलते हैं कि हम कभी नाथे थे क्या जो तुम अपने बैल को नाथोगे?

मैं पापाजी से एक बात सिखने कि बहुत कोशिश करता हूँ.. वो कभी भी ऑफिस का तनाव घर लेकर नहीं आते थे.. ऑफिस का टेंशन ऑफिस में रहता था.. एक प्रशासनिक अधिकारी को कई तरह के तनाव हर वक़्त घेरे रहता है, मगर वह कभी भी हम देख नहीं पाए.. दफ्तर में एक कड़क अधिकारी कि पहचान रखने वाले पापाजी के मातहत कर्मचारी अगर घर में उन्हें हमारे साथ देख लेते थे तो आश्चर्य में पड़ जाया करते थे.. ‘साहब ऐसे भी हैं, ये तो पता ही नहीं था’ वो एक बार मुझे एक बात बोले थे, जिसे मैंने गाँठ बाँध कर रख लिया है.. वो बोले थे कि “किसी भी इंसान कि पहचान इससे नहीं होता है कि वह अपने से बड़े के साथ कैसा बर्ताव करता है, बल्कि इससे होता है कि वह अपने से छोटे से कैसा व्यवहार रखता है”.. मैं अच्छे से जानता हूँ कि पापाजी अगर ये पढेंगे तो उन्हें आश्चर्य ही होगा कि वो कब ये बात बोले थे.. बाद में भैया से भी ये मैंने सुना था..

अभी कुछ दिन पहले पापाजी से बात हो रही थी.. उन्हें मैं किसी बात पर अपने कुछ दोस्तों के बारे में बता रहा था.. बता क्या रहा था, एक तरह का कान्फेशन(Confession) ही था.. उन्हें अपने दोस्तों कि खूबियों के बारे में बता रहा था कि वो किन-किन मामलों में मुझसे अच्छे हैं.. पापाजी पूछ बैठे, “क्या वे सब तुम्हारे आदर्श हैं?” मेरा कहना था कि अभी तक अपने जीवन में किसी भी ऐसे व्यक्ति से नहीं मिला हूँ जिसे मैं अपना आदर्श मान सकूं, अगर उन्हें अपने आदर्श कि कसौटी पर कसने बैठ गया तो वे मुझे बेचारे से नजर आयेंगे.. मेरा एक्सपेक्टेशन लेवल बहुत ऊंचा है इस मामले में.. मेरा कहना था कि किसी को खुद से अच्छा मानना एक अलग बात है और किसी को अपना आदर्श मानना अलग.. हाँ मगर यह बात जरूर है कि अगर कोई मुझसे पूछे कि तुम कैसा बनना चाहोगे, तो मेरा जवाब होगा “अपने पापा जैसा”..

एक बार आठवीं कक्षा कि परीक्षा में मैंने चोरी कि थी.. परीक्षा भवन में तो किसी को कुछ भी पता नहीं चला मगर इंस्ट्रूमेंट बाक्स में छुपाया गया चीट घर में गवाही दे गया.. जिस दिन घर में पता चला उस दिन ही उसका परिणाम भी आने वाला था और मुझे स्कूल में भैया से ये खबर मिली.. मगर उस पर भी पापाजी मुझ पर चीखें-चिल्लाये नहीं और ना ही मार पड़ी.. और मुझे वह आत्मग्लानी कई दिनों तक खाती रही, जिसके कारण से फिर मुझे फेल होना तो मंजूर था मगर कभी चोरी करने कि हिम्मत नहीं हुई.. एक दफ़े भैया भी एक गलती किये थे अपने कालेज में, घर आने पर जब दो-तीन दिनों तक कोई कुछ भी उसके बारे में नहीं पूछा तो तीसरे दिन भैया खुद ही पापा-मम्मी के सामने फूट-फूट कर रोने लगे..

अभी अगस्त २००८ कि बात है.. केशू होने वाला था सो घर के सभी सदस्य इकठ्ठा थे.. बातों का दौर चल रहा था.. दीदी यूँ ही पूछ बैठी थी, “आपके होठों का रंग इतना काला क्यों होता जा रहा है? सिगरेट पीने लगे हैं क्या?” एक पल को मैं ठिठका, और बोल दिया “हाँ”.. यूँ तो भैया-भाभी को पता था और शायद भैया मम्मी को भी बता चुके थे.. मगर पापाजी को इसकी भनक भी नहीं थी.. एक सन्नाटा सा छा गया.. मम्मी कुछ बोली, जो मुझे याद नहीं है.. क्योंकि मैं पापाजी कि डांट सुनना चाह रहा था.. पापाजी एक बार फिर कुछ नहीं बोले.. ना ही आँखे तरेरे.. एक-दो मिनट बैठे और फिर धीमे से उठकर चुपचाप चले गए..

२२ अप्रैल को पापा-मम्मी कि शादी कि सालगिरह पर ली गई तस्वीर

दो बजिया बैराग्य वन
दो बजिया बैराग्य टू
दो बजिया बैराग्य थ्री

चलते-चलते : लिख चुकने के बाद जब पिछले पोस्टों का लिंक ढूंढ रहा था तो मैंने पाया कि एक-दो बातों को मैंने रिपीट किया है इस दफ़े.. अपनी सफाई में मैं कह सकता हूँ कि पहली बार वह छोटे में ही निपटा दिया था, जबकि इस बार यह विस्तार लिए हुए है.. मगर कहीं ना कहीं सागर कि बात भी सच होती दिख रही है.. उसने कहा था “एक सच बताऊँ … जब मैंने तुम्हें पहली बार पढ़ा था तो मुझे लगा था इतनी ज़मीनी बात करने वाला ज्यादा पोस्ट नहीं लिख सकता… लेकिन में गलत था… अपनी साफगोई और इमानदारी के कारण तुम बहुत कुछ लिख सकते हो जो प्रभावित करती रहेंगी… (माफ़ करना PD मैंने तुम्हारे बारे में गलत सोचा था)” अब मुझे लग रहा है कि सागर कि बात कही सच ना हो जाए..

ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है? Tuesday, Apr 27 2010 

कल मैंने एक दफ़े फिर से यह सिनेमा देखी, और इस पुरानी पोस्ट को फिर से ठेल दिया। पहली बार जब मैंने यह लिखा था तब शायद ही कोई मेरे ब्लॉग को पढता था, शायद अबकी कोई पढ़ ले। 🙂

कल मैंने फिर से प्यासा देखी, ये एक ऐसी फ़िल्म है जिसे मैं जितनी बार देखता हूं उतनी बार एक बार और देखने का जी चाहता है। मेरा ऐसा मानना है कि अगर कोई भी डायरेक्टर अपने जीवन में इस तरह का फ़िल्म बनाता है तो फिर उसे कोई और फ़िल्म बनाने कि जरूरत ही नहीं है, क्योंकि वो फ़िल्म व्यवसाय को इससे अच्छा उपहार दे ही नहीं सकता है। मगर जैसा कि अपवाद हर जगह होता है, बिलकुल वैसे ही गुरूदत्त जैसा अपवाद हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री को भी मिला। उन्होंने हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री को एक से बढकर एक कई अच्छे और दिल को छू जाने वाले फ़िल्म दिये। जैसे ‘कागज़ के फूल’, ‘चौदहवीं का चांद’, ‘साहिब, बीवी और गुलाम’, ‘मिस्टर एंड मिसेस 55’, ‘बाज़ी’, इत्यादी।

यहाँ मैं बस प्यासा फ़िल्म की चर्चा करने जा रहा हूं। मेरे मुताबिक ये फ़िल्म अपने आप में एक विशिष्ठ श्रेणी की फ़िल्म थी, क्योंकि यह फ़िल्म तब बनी थी जब जवाहर लाल नेहरू के सपनों के भारत का जन्म हो रहा था। और उस समय गुरूदत्त ने जो समाज का चित्रन किया था वो आज कि परिदृष्य में भी सही बैठता है।

प्यासा, जो सन १९५७ में बनी थी, में वह सबकुछ है जो किसी फ़िल्म के अर्से तक प्रभावी व जादुई बने रहने के लिए ज़रुरी होता है। सामान्य दर्शक के लिए एक अच्छी, कसी हुई, सामयिक कहानी का संतोष (फ़िल्म के सभी, सातों गाने सुपर हिट)। और सुलझे हुए दर्शक के लिए फ़िल्म हर व्यूईंग में जैसे कुछ नया खोलती है। अपनी समझ व संवेदना के अनुरुप दर्शक प्यासा में कई सारी परतों की पहचान कर सकता है, और हर परत जैसे एक स्वतंत्र कहानी कहती चलती है। परिवार, प्रेम, व्यक्ति की समाज में जगह, एक कलाकार का द्वंद्व व उसका भीषण अकेलापन, पैसे का सर्वव्यापी बर्चस्व और उसके जुडे संबंधों के आगे बाकी सारे संबंधों का बेमतलब होते जाना।

मैं यहां प्यासा फ़िल्म का एक गाना लिख रहा हूं जो कि आज के समाज पर भी उतना ही बड़ा कटाक्ष कर रहा है जैसा उस समय पर था। ये मेरे अब-तक के सबसे पसंदीदा गानों में से भी है।

ये महलों, ये तख्तों, ये ताजों की दुनिया..
ये इंसान के दुश्मन समाजों की दुनिया..
ये दौलत के भूखे रिवाजों की दुनिया..
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है??

हर एक जिस्म घायल, हर एक रूह प्यासी..
निगाहों में उलझन दिलों में उदासी..
ये दुनिया है या आलम-ए-बदहवासी..
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है??

यहां एक खिलौना है इंसान की हस्ती..
ये बस्ती है मुर्दा-परस्तों की बस्ती..
यहां पर तो जीवन से है मौत सस्ती..
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है??

जवानी भटकती है बदकार बनकर..
जवां जिस्म सजते हैं बाजार बनकर..
यहां प्यार होता है व्यापार बनकर..
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है??

ये दुनिया, जहां आदमी कुछ नहीं है..
वफ़ा कुछ नहीं, दोस्ती कुछ नहीं है..
जहां प्यार की कद्र ही कुछ नहीं है..
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है??

जला दो इसे फ़ूंक डालो ये दुनिया..
मेरे सामने से हटा दो ये दुनिया..
तुम्हारी है, तुम ही संभालो ये दुनिया..
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है??

दो बजिया वैराग्य पार्ट थ्री Friday, Apr 16 2010 


कल दीदी का फोन आया, तक़रीबन रात साढ़े दस बजे के आस पास.. अक्सर जब भी फोन करती है तो उसका समय दस से ग्यारह के बीच ही होता है.. बहुत खुश होकर फोन कि थी और सिर्फ एक सूचना देकर एक मिनट से भी कम समय में फोन रख दी.. बोली कि मैंने आखिर अपना इमेल बना ही लिया है और आपको(सबसे छोटा होने के बाद भी सभी मुझे घर में ‘आप’ ही कहते हैं.. क्यों, कारण फिर कभी) मेल भी कर दिए हैं.. इससे पहले शायद 2001 के लगभग दीदी Rediff पर अपना इमेल यूज करती थी, अब तो उसे उसका ID भी याद नहीं है पासवर्ड कि बात तो बेहद दूर है..

बचपन से लेकर अभी तक दीदी मुझे लगभग हर मुसीबत(जो उन्हें ज्ञात हो) से बचाती आई है.. मैं कितना भी याद करने कि कोशिश करता हूँ मगर मुझे यह कभी याद नहीं आता कि दीदी कभी भी मुझपर हाथ उठाई हो.. हाँ, मगर ऐसे किस्से खूब याद हैं जब मैंने बचपन कि नासमझी में दीदी को मारा हूँ.. एकाध किस्सों को छोड़ दिया जाये तो मुझे पापाजी से जब कभी भी पिटाई लगी है तो सिर्फ और सिर्फ दीदी को मारने के कारण ही.. और उस समय भी मुझे बचाने वाली दीदी ही हुआ करती थी.. पापाजी से लगभग लड़ लेती थी कि मेरे भाई को मत मारिये..

पटना में आने के बाद से जब भैया आगे कि पढाई के लिए घर से बाहर निकल गए और मेरा घर से बाहर निकलना कुछ बढ़ा, तब दीदी ही मेरी मित्र-सखा सब कुछ थी.. उसी समय पहली बार हमें जेबखर्च के नाम पर कुछ मिलना शुरू हुआ था.. 1999-2000 कि बात कर रहा हूँ.. वैसे जेबखर्च मिलना-ना मिलाना, दोनों मेरे लिए बराबर ही था.. घर के सारे सामान मैं ही लाता था, सो कभी ये हिसाब नहीं रहता था कि मैंने अपने जेबखर्च से घर का सामान खरीद लिया है या फिर घर के सामान के लिए मिलने वाले पैसे को अपने ऊपर खर्च कर लिया है..

कुल जमा 300 रूपये हमें मिला करता था, और दीदी के पास वह जब कभी 500-1000 के पास पहुँचता था तब दीदी वह सारे पैसे मुझ पर खर्च कर देती थी.. कभी कोई सनग्लास तो कभी कोई टीशर्ट्स तो कभी कुछ.. दीदी कि शादी के समय दीदी के पास लगभग 300-400 रूपये थे उन्ही जेबखर्च से बचे हुए और वह भी दीदी मुझे दे दी थी.. मैंने भी उन्हें 2003 से अभी तक छुपा रखा है अपनी एक डायरी के अंदर.. यक़ीनन रूप से मैं यह कह सकता हूँ कि वह पैसे मुझ से कभी भी खर्च ना हो सकेगा..

मेरी वह डायरी भी एक अजीब अजायब घर से कम नहीं दिखती है.. एक स्केच जो मेरे लिए मोनालिसा के पेंटिंग से भी अधिक कीमती है.. दीदी के दिए कुछ रूपये, और जीजाजी से लिए गए 5 अमेरिकन डॉलर.. मेरे लिए कुछ अमूल्य पेपर कि कतरने.. दो-तीन सूखे हुए गुलाब कि झड़ी हुई पंखुडियां जिनसे अब खुश्बू नहीं आती.. कुछ खास लोगों के पासपोर्ट साइज की तस्वीरें.. इन सबमे से अगर उन रूपयों और डॉलर को हटा दिया जाए तो बाकि चीजों कि कीमत पांच पैसे भी कोई ना लगाये, मगर मैं उन्हें अपने उस ताले वाले डायरी में हमेशा बंद करके रखता हूँ.. इस कदर कि कोई उसे देख भी ना सके..

बिहार और बिहार के बाहर के लोगों का अक्सर यह मानना होता है कि जो भी बिहार बोर्ड से पढ़ा-लिखा है तो उसकी अंग्रेजी खराब होना निश्चित है(अभी तक के अनुभव से इसे सही पाया भी है, बिहारी विद्यार्थी को अक्सर इसी मोर्चे पर मात खाते भी देखा है).. दीदी इसे भी मिथ्या साबित कर दिखाई थी.. हम दोनों भाई केंद्रीय विद्यालय से पढ़े होने के बाद भी दीदी कि अंग्रेजी के सामने कुछ भी नहीं थे..

घर में शुरू से ही एक स्कूटर रहा है और बाद में एक कार भी आ गई थी.. हम सभी के वयस्क होने के बाद भी पापाजी अक्सर हमें उसे चलाने से रोकते थे.. किसी अनजाने भय से ग्रसित होकर कि एक्सीडेंट कर देगा, वगैरह-वगैरह.. दीदी अक्सर मुझे स्कूटर निकलने को कहती थी और जब तक मैं वापस ना आ जाऊं तब तक घर में संभाले रखती थी कि किसी को पता ना चल जाए कि मैं स्कूटर लेकर सिखने निकल गया हूँ.. कार में मामले में स्थिति अलग थी, कार थोड़ी बड़ी थी और सभी को आराम से पता चल जाता(फिर भी दो-तीन दफ़े मैं जब पटना में अकेला होता था तो कार लेकर कालेज चला जाता था, कुछ चलाने के लालच से और कुछ शो-ऑफ करने के लालच से)..

जब घर में हम दो बच्चे ही थे(भैया इंजीनियरिंग कि पढाई के लिए पहले ही बाहर जा चुके थे) तो उनमे झगडा होना भी जरूरी था.. और हम झगड़ते भी थे.. पूरे दो साल तक मैं हर दिन सुबह साढ़े छः-सात बजे तक दीदी को कालेज छोडने जाता था.. और यह रूटीन मेरा कभी नहीं टूटा, चाहे हम दोनों में कितना भी अनबन चल रहा हो.. हर दिन सुबह दीदी को उठाना और अगर झगडा चल रहा हो तो कोई सामान पटक कर शोर मचा कर उठाना, मगर उठाना.. गर्मी हो बरसात हो या 3-4 डिग्री वाली हाड़कंपाती सर्दी..

इसे अचानक से यहीं खत्म कर रहा हूँ, क्योंकि इसे मैं चाह कर भी किसी इंड प्वाइंट तक लाकर खत्म नहीं कर सकता.. ऐसे ही अनाप-सनाप लिखता ही चला जाऊंगा..

दो बजिया बैरागी पार्ट 1
दो बजिया बैरागी पार्ट 2

इंडिया सर ये चीज धुरंधर Thursday, Apr 15 2010 

किसी ने सच ही कहा है, कि अंग्रेजी में अक्सर अपशब्द डाल्यूट हो जाया करते हैं.. अपनी तीव्रता नहीं बनाये रख पाते हैं.. कुछ ऐसा ही फौलोवर शब्द के साथ भी है.. शब्दकोश.कॉम पर फौलोवर शब्द के तरह-तरह के मतलब दे रखे हैं.. मसलन – अनुगामी, अनुयायी, शिष्य, अनुसरणकर्ता, अधीन चेला, आगे दिया हुआ.. मेरी समझ में इसी का स्लैंग रूप “चमचागिरी” भी है..

आजकल अजित अंजुम जी फेसबुक पर चमचों के ऊपर रिसर्च कर रहे हैं.. उन्हें तरह-तरह के नये शब्द लोग सुझा रहे हैं.. कोई चमचाधिराज बता रहा है टो कोई चाटू नारायण.. एक भाई साहब आकर बेलचा पर भी नजरें इनायत करके आख्यान दे गये इस हिदायत के साथ कि चमचा और बेलचा का पुराना नाता है..

मेरी समझ में अगर आप किसी के साथ, अपनी इच्छा ना होते हुये भी, दो कदम अधिक चल लेते हैं तो इसे चमचागिरी के कैटेगरी में नहीं रखा जा सकता है.. एक उदहारण देना चाहूँगा, अगर आपके पास ‘ए’ और ‘बी’ ऑप्शन है और आप कुछ भी चुने इससे आपको कोई अंतर नहीं पड़ता हो, ऐसे में किसी के कहने पर आप ‘ए’ चुन लेते हैं और लोग आपको उसका चमचा बता जाते हैं..इस पर मुझे सिर्फ एक शेर याद आता है, “करीब जाकर छोटे लगे… वो लोग जो आसमान थे..” आज प्यार या लगाव भी चमचागिरी के फेर में पड़ने लगे हैं, खैर ये अपनी अपनी समझ का फेर है..

चमचागिरी के कैटगरी पर बात उठाने पर राजीव मिश्र जी आकर उसे छः भागों मे ऐसे बांटते हैं कि इस दुनिया जहान का हर कर्म चमचागिरी के घेरे मे आ जाये.. वो बताते हैं :

पहली वेरायटी — वो जो बॉस की हाँ में हाँ तुरंत मिलाते हैं।

दूसरी वेरायटी — जो बॉस की हाँ में हाँ मिलाने की पहले वजह ढूंढते हैं।

तीसरी वेरायटी — क्या बात है सर जी, वाह भई वाह, आपने तो कमाल कर दिया, सिर्फ आप ही यह कर सकते थे आदि आदि वाक्यों से अपनी बात कहते हैं।

चौथी वेरायटी — ऐसा कोई मौका नहीं खोते जैसे उनका जन्मदिन, शादी की सालगिरह, बच्चे का जन्म दिन, बीवी का जन्मदिन… जिसमें उनसे पहले कोई बधाई देदे।

पांचवीं वेरायटी — कुछ ऐसे होते हैं कि कुछ लोग सिर्फ अपने होने का एहसास कराने के लिए बीच-बीच में लाइक्स इट, हं, हमममम आदि लिख देते हैं।

छठा वेरायटी — भी जो अपनी शेखी बघारने के लिए अपने से मेल खाता विचार आने का इंतजार करते रहते हैं…

यह सब पढते हुए मेरे मन मे लालू प्रसाद यादव जी द्वारा अक्सर प्रयोग मे लाया जाने वाला जुमला याद हो आया.. टीटीएम, यानि ताबड़तोड़ तेल मालिश.. कुछ घंटे बाद ही अजित जी ने भी यह बात लिख डाली..

अंत मे रविन्द्र पंचोली जी द्वारा लिखा गया कविता, दोहा या गजल टाइप का ही कुछ भी पढते जाएँ..
सुन चमचा संसार में सभी चम्मच एक रंग
कोई उड़ाए दारू तो कोई पीए भंग
काम करने वाला रोए और ये लंबी तान कर सोए
ये काटते माल ख़ुद्दार दिहाड़ी को रोए..

अधिक विस्तार से पढ़ने के लिए आप अजित जी के फेसबुक प्रोफाइल में झाँक आयें.. चमचागिरी पर अगर कोई PHD करना चाहे तो पूरी थिसिस का माल उन्हें वहाँ मिल ही जायेगा.. कई थ्रेड बने हुए हैं चमचों के ऊपर..

मां रेवा तोरा पानी निर्मल, खलखल बहतो जायो रे!! Tuesday, Apr 6 2010 


अभी कुछ दिनों पहले रविश जी ने फेसबुक पर “इंडियन ओशन” के एक गीत “मां रेवा” का जिक्र करते हुये कहा था “मां रेवा…तेरा पानी निर्मल..कल कल बहतो जाए…इंडियन ओशन का जब यह गाना सुनता हूं तो मां रेवा हलक के भीतर उतरने लगती है। नर्मदा के दीदार की तमाम ख्वाहिशें मचलने लगती हैं। इंडियन ओशन का संगीत सकारात्मक उन्माद पैदा करता है।”

उनका लिखा यह पढ़ते ही यह गीत सीधा दिल तक उतर आया.. अपने लैपटॉप के हार्डडिस्क में खूब ढ़ूंढ़ा मगर कमबख्त जाने कहां गुमा हुआ सा बैठा था कि नहीं मिला.. फिर इंटरनेट महाराज ने मुझ पर असीम कृपा दिखाई और मैंने यह गीत डाउनलोड करके अपने मोबाईल में डाल लिया..

ईश्वर जैसी चीजों को मैं हमेशा से ही नकारता रहा हूं, मगर मानता रहा हूं कि विश्व कि किसी भी सभ्यता के शुरूवाती क्षणों में लोग प्रकृति की ही पूजा किया करते थे.. वे हर उन चीजों को पूजते थे जिसे वह जीवन के लिये जरूरी मानते थे.. हमारी भारतीय संस्कृति में भी हम नदियों को मां और पर्वतों को पिता का दर्जा देते आये हैं..

मैंने कभी मां नर्मदा को देखा नहीं है.. बचपन उत्तर बिहार के लखनदेई नदी और चक्रधरपुर के पहाड़ी नदी के किनारे बीता है और किसोरावस्था से जवानी की दहलीज तक पांव रखते हुये मां गंगे को नजदीक से देखा हूं, सो यह गीत सीधा दिल को चीर कर अंदर तक घुसता प्रतीत होता है.. रविश जी सच ही इसे एक सकारात्मक उन्माद का नाम दिये हैं.. एक ऐसा उन्माद जो आपको प्रकृति की ओर खिंचता है..

मां रेवा तोरा पानी निर्मल,
खलखल बहतो जायो रे..
मां रेवा!!!

अमरकंठ से निकली है रेवा,
जन-जन कर गयो भाड़ी सेवा..
सेवा से सब पावे मेवा,
ये वेद पुराण बतायो रे!!

मां रेवा तोरा पानी निर्मल,
खलखल बहतो जायो रे..
मां रेवा!!!

शाम तक इसे पॉडकास्ट करता हूं..

———————————-
बाद में जोड़ा गया..

दो बजिया वैराग्य पार्ट टू Saturday, Apr 3 2010 


घर से कई किताबें लाया हूँ जिनमे अधिकतर फणीश्वरनाथ रेणु जी कि हैं.. उनकी कहानियों का एक संकलन आज ही पढ़ कर खत्म किया हूँ, ‘अच्छे आदमी’.. पूरी किताब खत्म करने के बाद फुरसत में बैठा चेन्नई सेन्ट्रल रेलवे स्टेशन पर अपने मित्र के ट्रेन के आने का इंतजार कर रहा था, तो उस किताब कि बाकी चीजों पर भी गौर करना शुरू किया.. उसके पहले पन्ने पर पापाजी कुछ लिख रखे थे, जिसमे उस किताब के ख़रीदे जाने के समय वह कहाँ पदस्थापित थे और वह उनके द्वारा ख़रीदे जाने वाली कौन से नंबर का उपन्यास है.. “चकबंदी, बाजपट्टी”.. उस समय पापाजी वही पदस्थापित थे.. इससे मैंने अंदाजा लगाया कि यह किताब सन १९८२ से १९८६ के बीच कभी खरीदी गई होगी.. मगर किताब के ऊपरी भाग को देखने से कहीं से भी यह किताब उतनी पुरानी नहीं लगती है, हाँ अंदर झाँकने पर पृष्ठ कुछ भूरे रंग के हो चले हैं और पुरानी किताबों जैसी सौंधी सौंधी सी खुशबू भी आती है.. एक जिम्मेदारी का एहसास होता है कि जिस तरह उन्होंने इसे संभाल कर अभी तक इन किताबों को रखा है, मुझे भी ऐसा ही व्यवहार इन किताबों के साथ करना चाहिए..

कुछ याद भी आया, जो पापाजी का किताबों के प्रति दीवानापन दिखाता है.. मैं बचपन से लेकर अभी तक खरीदी हुई लगभग हर चम्पक, नंदन, बालहंस, सुमन-सौरभ और कामिक्सों को भी ऐसे ही संभाल कर रखा हुआ हूँ जैसे पापाजी इन उपन्यासों को.. किसी भी कहानी कि किताब का एक पन्ना भी कोई ना मोड़े और अगर किसी को उसे मोड कर पढ़ना है तो कम से कम मेरी कहानी कि किताबों को तो मत ही छुवें.. उसे मोड़ कर पढ़ने का अधिकार मैंने पापाजी को भी नहीं दे रखा है..

कुछ पुरानी यादों में गोते भी मारा, वैसे भी कोई और काम था नहीं.. बगल में एक दो-ढाई साल की बच्ची के साथ आँख मिचौली भी बैठे-बैठे ही खेला.. पीले रंग की फ्रॉक पहन कर इतराती फिर रही थी, दीन-दुनिया से बेखबर.. उस किताब के ख़रीदे जाने के समय मैं अधिक से अधिक तीन से पांच साल का रहा होऊंगा..

बिहार एक बेहद रूढ़िवाद से जकडा हुआ प्रदेश है जहाँ जाति और समाज के कुचक्रों से बचकर निकलना बहुत मुश्किल है.. ऐसे माहौल में भी पापाजी का हम बच्चों से सदा मित्रवत व्यवहार रहा.. उन्होंने अपना बचपन संघर्षों में ही बिताया है और B.A.S. में आने से पहले उन्हें कई सीढियाँ नापनी पड़ी थी.. अपने भीतर के आत्मविश्वास को भी जगाना पड़ा था.. और जब आत्मविश्वास इस स्तर तक पहुंचा की वह I.A.S. के बारे में सोचें भी, उस परीक्षा में बैठने की उनकी उमर गुजर चुकी थी.. उन्होंने कभी भी अपनी बात, अपने सपने हम पर नहीं थोपे.. मगर फिर भी हमें यह भली भांति पता है की उनका एक सपना था की उनका कोई बेटा I.A.S. बने..

बचपन से ही पढाई-लिखाई के मामले में पापाजी का मुझ पर एक ऐसा अटूट भरोसा था जिसे मैं अक्सर तोड़ता फिरता था.. यह सिलसिला तब तक चलता रहा जब तक मैं कंप्यूटर सीखना शुरू नहीं किया था.. जब भरोसा ऐसा था तब मुझसे भी बिना कहे, लगभग मूक संवाद जैसा ही कुछ, उन्हें यह उम्मीद भी थी की यह बेटा भी I.A.S. बने.. उनकी इस उम्मीद पर सबसे पहले मैंने पानी फेरा, यह कहकर की मैं कंप्यूटर फील्ड नहीं छोड़ने वाला हूँ.. और बाद में भैया ने भी यह स्पष्ट कर दिया की अगर मुझे I.A.S. ही बनना था तो मुझे M.Tech. तक की पढाई करने की क्या जरूरत थी? और बाद में भैया ने आधे स्तर पर ही सही पापाजी का आधा सपना पूरा कर दिया I.E.S. ज्वाइन करने के बाद..

मेरा तब भी और अब भी यही मानना है की हम तीनो भाई बहन में दीदी सबसे अधिक इंटेलेक्ट थी और है भी.. और दीदी के लिए I.A.S. निकालना ‘पीस ऑफ अ केक’ के ही सामान था.. मगर दीदी हमेशा अपने सपनो में ही गुमी सी रहने वाली लड़की थी.. जिसमे कुछ आसमान, कुछ तितलियाँ, कुछ चिड़ियों ने अपनी जगह बना रखी थी.. घर में हम तीनो भाई-बहन में अगर कोई कभी भी I.A.S. की परीक्षा में बैठा था तो वह दीदी थी.. मगर दीदी कभी भी उसे सीरियसली नहीं ली..

पापाजी की एक आदत है.. कभी-कभी वह अक्सर जान बूझकर कुछ ऐसी बात कह जाते हैं जिससे हम हद दर्जे तक इरिटेट हो जाएँ.. इधर हम इरिटेट हुए और उनके चहरे पर एक विजयी मुस्कान आ जाती है.. यह भी कुछ वैसा ही है जैसे हम अपने किसी सबसे अच्छे मित्र को जानबूझ कर इरिटेट करते फिरते हैं..

एक दफ़े उनसे बात करते-करते उन्होंने कहा की मेरे बच्चे बेवकूफ हैं जो काबिलियत होते हुए भी I.A.S. नहीं बने.. मैंने आगे जोड़ा, नहीं पापाजी.. आपके बड़े बच्चे बेवकूफ होंगे, मैं तो नालायक हूँ.. उनका कहना था की सिर्फ मुझे ही पता है की मेरा छोटा बेटा क्या है और उसमे क्या करने की क्षमता है.. मैं सोचने लग गया था.. “हर माँ-बाप को अपने बच्चे पर इस तरह का अन्धविश्वास क्यों होता है? या फिर यह एक ऐसा विश्वास है जो बच्चों में कुछ भी कर गुजरने की ताकत दे देता है?”

बहुत बकवास कर लिया आज.. बाकी फिर कभी.. 🙂
दो बजिया वैराग्य पार्ट वन

अब मुझे कोई इन्तजार कहाँ Tuesday, Mar 30 2010 

मेरे कितने जिद करने पर तुमने मुझे चूमने के लिए अपने होंठो को आगे कर दिया था.. आँखे भी बंद थी तुम्हारी.. तुम्हारी वह मासूमियत देख कर तुम्हारे होंठो को चूम भी नहीं पाया था मैं.. बस देखता रह गया था वह समर्पण.. कुछ देर बाद आँखें खोलने पर तुमने मुझे मुस्कुराता पाया था.. तुम झेंप गई थी.. झेंप मिटाने कि कोशिश में मुझसे लड़ पड़ी थी.. मगर मैंने तुम्हारी वह छवि आँखों में बंद कर ली थी.. आँखों में अब भी तुम्हारी वह छवि कैद है.. इन्हें आजाद करने के लिए मुझे तुम्हे चूमना जरूरी है.. किसी को यूँ ही कैद में नहीं रखना चाहिए..

देर रात ट्रेन कि खिडकी से झांकते चाँद को देख तुम्हे अक्सर मेरी याद आ जाती थी.. तुम्हारा ख़्वाब था कि कभी मैं भी इन रूमानी हालातों में तुम्हारे साथ रहूँ, चाँद के साथ चलूँ.. यह सब फोन पर उसी वक्त बताया था तुमने.. रेल कि खिडकी से मैं भी अक्सर झांकता हूँ.. साथ दौड़ते कई तारों को देखता हूँ जो अचानक उलझते-सुलझते रहते हैं.. रिश्ते भी अक्सर उतनी ही तेजी से उलझ जाया करते हैं.. काश रिश्ते भी उसी तेजी से मैं सुलझा पाता कभी.. एक हुनर सीखनी बाकी है अभी..

तुम मेरे सीने पर सर रख कर सोना चाहती थी.. उस दिन मेरे सीने पर सर रखकर सोते हुए कहा था तुमने.. जाने किस भय से मुझमे समा जाना चाहती थी तुम.. उस दिन तुम दरवाजे को बंद करना भूल गई थी.. संयोग से कोई गुजरा नहीं वहाँ से.. वह पहला और आखिरी दिन था.. आख़िरकार तुम्हारे ख़्वाब पूरे हो गए थे, मेरे सीने पर सर रख कर सोने का.. कुछ ख्वाहिशें अधूरी है अभी.. जिंदगी से कुछ विशलिस्ट उधार ले रखा है.. कुछ ख़्वाब अभी भी तुम्हारी राह तक रहे हैं.. तुम्हारा आना जरूरी है अब.. ख़्वाबों को भी उनकी जमीन मिलनी चाहिए जहाँ वह कुछ और ख़्वाब पैदा कर सके.. तुम्हारा इन भूमिहीन ख़्वाबों से सामंतों सा व्यवहार ठीक नहीं है..

उस दिन तुम्हारे जाने से पहले जिद कि थी, उस मीठी वाले कैंडी की, उसी बनिए के दूकान से.. जिसे पूरी नहीं कर सका था मैं.. रविवार जो था उस दिन.. बंद दुकानों का बंद दिन.. सोचा अगली बार वह जिद पूरा कर दूँगा.. वह अगली बार कभी नहीं आया.. जिंदगी के दोराहे में दोनों अलग हो गए, कभी ना मिलने के लिए.. थोडा दंभ, थोड़ी बेफिक्री में और अधिक लाचारी में सोचा कहाँ जायेगी? वह जो एक क्षण भी मेरे बगैर नहीं रह पाती है.. दिन हफ्तों में, हफ्ते महीनो में और महीने सालों में बदलते गए.. नहीं आना था तुम्हे, नहीं आयी.. मैंने कहा था ना तुम्हे, एक हुनर सीखनी बाकी है अभी.. समझती क्यों नहीं हो तुम?

अब मुझे कोई इन्तजार कहाँ..
वो जो बहते थे आबसार कहाँ..

आँख के एक गाँव में, रात को ख़्वाब आते थे..
छूने से बहते थे, बोले तो कहते थे..
उड़ते ख़्वाबों का एतबार कहाँ..
अब मुझे कोई इन्तजार कहाँ..

जिन दिनों, आप थे, आँख में धूप थी..
जिन दिनों आप रहते थे..
आँख में धूप रहती थी..
अब तो जाले ही जाले हैं..
ये भी जाने ही वाले हैं..
वो जो था दर्द का, करार कहाँ..
अब मुझे कोई इन्तजार कहाँ..

अब मुझे कोई इन्तजार कहाँ..
वो जो बहते थे आबसार कहाँ..

Ishqiya – 03 – Ab …

Note – कंचन दीदी के शह पर लिखा गया यह पोस्ट. 🙂

क्या हम खुद को गलत मानने कि हद तक मैच्योर हैं? Sunday, Mar 28 2010 

११ मार्च को आखिरी दफ़े कुछ लिखा था यहाँ.. १५ दिन से ऊपर गुजर गए हैं यहाँ कुछ भी लिखे हुए.. मैं कभी भी इस मुगालते में नहीं रहा कि लोग मुझे पढ़ने को बेचैन हैं और मुझे अपने पाठकों के लिए कुछ लिखना चाहिए.. मुझे पता है कि लोगों कि यादाश्त बहुत कमजोर होती है और जो सामने उन्हें दिखता है बस उसे ही याद करती है.. बाकी बाते तो इतिहास के पन्नों में छिप जाया करती है.. अच्छे-अच्छे लेखक को भी लोग भूल जाया करते हैं, मैं तो लेखक भी नहीं हूँ..

कई लोग हैं जो मुझसे यह बात पूछ चुके हैं कि तुम कुछ लिख क्यों नहीं रहे हो? कुछ फोन पर, कुछ चैट पर और कुछ ई-पत्र के जरिये.. मैं अच्छे से जानता हूँ कि इसका कारण मेरा लिखा पढ़ने कि इच्छा के बदले उनको यह जानने कि उत्सुकता है कि मैं कभी भी इतने अंतराल तक अपने ब्लॉग को खाली नहीं छोड़ा करता हूँ.. आज भी कुछ बकवास ही लिख कर जा रहा हूँ..

चलिए मैं बता ही देता हूँ कि इन दिनों क्या किया?

इन दिनों खूब पढ़ा हूँ, जिसमे कंप्यूटर कि किताबों से लेकर साहित्य और दर्शन तक शामिल है.. अभी भी कई किताबें बची हुई है जो समयाभाव में मेरी राह तक रही हैं.. अपने स्वाभानुसार खूब सोचा भी हूँ, जिसमे इन साहित्य और दर्शन से लेकर अपने जीवन और भविष्य से संबंधित बाते भी हैं.. कई नए अनुभव भी मिले हैं इन पन्द्रह दिनों में ही जो शायद जीवन में तब तक काम आयें जब तक उसे गलत साबित करने वाले नए तथ्य सामने ना आ जाये..

काफी कुछ लिखा भी हूँ.. मगर सिर्फ और सिर्फ अपने लिए.. किसी और को उस जगह झाँकने नहीं देना चाहता हूँ.. क्योंकि मेरा मानना है कि हिंदी ब्लॉग जगत अभी तक उतना मैच्योर नहीं है कि उसे हजम कर सके.. लोग यहाँ चार-पांच साल पुराने लिंक को भी संभाल कर रखते हैं जिससे समय आने पर सामने वाले पर कीचड़ उछाला जा सके.. सामने वाले को नंगा कर खुद को सभ्रांत लोगों में शुमार दिखना चाहते हैं.. कुछ कुछ यही हाल मैं समाज के बारे में भी कहूँगा.. समाज के लोग तिलमिला उठते हैं ऐसी बाते सुनकर.. अपनी भ्रांतियों को टूटते देखना उनकी आदत में नहीं है.. कुछ लोग जल्दी और कुछ देर से मगर तिलमिलाते सभी हैं, और उसपर भी अगर बात सच्ची हो और उसे काटने का कोई तर्क उन्हें नहीं दिखे तो उसे अश्लील या वल्गर कहकर ख़ारिज कर देना चाहते हैं..(सनद रहे कि मैं भी इसी समाज और हिंदी ब्लॉग जगत ही ही बासिन्दा हूँ.. सो यह सब मुझपर भी लागू होता है..)

सभी कुछ लिखता हूँ अपनी वेब डायरी में.. एक ऐसे ब्लॉग पर जो मेरा नितांत निजी ब्लॉग है और उसपर मेरे अलावा किसी और को भटकने का अधिकार मैंने नहीं दिया है.. कुछ ख़्वाब ख्यालात कि बाते भी हैं उस पर, कुछ रूमानी बाते भी और कुछ समाज, दोस्ती और रिश्तों कि बाते भी.. कुछ बाते मैंने अपने कुछ मित्रों से भी कि उन विषयों पर जिन पर मैंने वहाँ लिख छोड़ा है, मगर उनके शब्द या व्यवहार फिर से बिना किसी तर्क के उसे ख़ारिज करने पर ही लगा हुआ था.. हो सकता है कि कभी मैं खुद ही उन्हें खारिज कर दूं, और बिना किसी गवाह या सबूत के उसे डिलीट होने का सजा भी सुना दूँ..

फिलहाल जिन किताबों को पढ़ रहा हूँ उसका चित्र मैं यहाँ लगा रहा हूँ.. जिन्हें जल कर ख़ाक होना है वह हो जाए और जिन्हें यह सोचकर गर्व करने का मौका मिल जाए कि “हुंह, यह सब तो मैंने दस साल पहले ही पढ़ रखे हैं” तो वे गर्वित भी हो सकते हैं..

कुछ अंग्रेजी कि पुस्तके भी हैं, जिनकी तस्वीर यहाँ नहीं लगा रहा हूँ, जिनमे प्रमुख रूप से रोबिन शर्मा कि किताबें शामिल है..

फुटकर नोट : कभी कभी लगता है वे मनुष्य जो सबसे अधिक अनैतिक होते हैं, नैतिकता का सबसे बड़ा लेक्चर उन्ही के पास होता है..

बाथ टब कि कहानी Thursday, Mar 11 2010 


“पछान्त मामू, आपके पास टब है?” उसके अजीब सवालों में एक और सवाल शामिल था अभी.. मुझे समझ में नहीं आया कि अचानक से साईकिल चलाते हुए वह टब या यूं कहें कि बाथ टब पर कैसे आ गई.. मैंने भी उसके बालमन को दिलासा देते हुये “हां” कह दिया..

“कितना बड़ा है आपका वाला टब?” अगला सवाल.. मुझे घर में घुसे हुये बस दो-तीन घंटे ही हुये थे, सो अभी तक मेरा धैर्य उसके सवालों का जवाब देते हुये चूका नहीं था.. फिर भी मुझे समझ में नहीं आया कि क्या कहूँ, कि कितना बड़ा है? उसी ने समझाते हुए पूछा, “वन है या हन्ड्रेड?” मैंने पूछा “वन और हन्ड्रेड क्या होता है?”

मेरे नासमझ से सवाल ने उसे हंसा दिया.. मन ही मन सोची होगी कि मामू इत्ते बड़े हो गए हैं फिर भी कित्ते बुद्धू हैं.. “वन मतलब थोडा सा, और हन्ड्रेड मतलब सबसे बड़ा..” बोलते हुए वह अपने छोटे से हाथ को जितना फैला सकती थी, फैला लिया.. अब जबकि सारा मामला साफ़ था तब भला कोई खुद को कम क्यों बताये? मैंने भी हन्ड्रेड ही बताया..

“आप मुझे नहाने दोगे?”
“नहीं.”
“मैं अच्छी लड़की हूँ.. बदमाशी भी नहीं करती हूँ..”
“अच्छा! क्या-क्या बदमाशी नहीं करती हो? पहले ये बताओ फिर हम बताएँगे कि तुमको नहाने देंगे कि नहीं.”
“मैं जो हूँ न.. मैं जो हूँ न..” सोचते हुए थोडा सा हकलाने लगी.. जो उसके झूठ बोलने कि कोशिश करने कि शुरुवात जैसा कुछ लगा.. “मैं अप्पू को नहीं मारती हूँ..” हाँ, झूठ ही बोलने वाली थी.. दीदी से जब भी बात होती है तब ये जरूर सुनने को मिलता है कि आज फिर दोनों बहन झगडा कि है.. ये दीगर बात है कि ये अपनी छोटी बहन अप्पू को तभी मारती है जब उसकी शैतानियाँ इसके बर्दास्त से बाहर होता है..

“और क्या बदमाशी नहीं करती हो?” मेरे मन में अब उसकी सभी बदमाशियों को जानने का लालच जाग गया था..
“मैं किसी से किट्टा भी नहीं होती हूँ.. मम्मी से तो कभी नहीं..” उसने कभी नहीं पर जोर डालते हुए कहा.. हफ्ते भर पहले ही दीदी से हुई एक बात याद आ गई, जब यह मुझे दीदी से बात नहीं करने दे रही थी और दीदी के डांटने पर उससे बार-बार किट्टा हो रही थी.. मैं मन ही मन अपनी कामयाबी पर खुश होते हुए मुस्कुरा दिया..

“और?”
“और, मैं हूँ ना.. पौटी भी नहीं बोलती हूँ..” मुझे उसके भोलेपन पर प्यार आ गया.. मुझे याद आया जब मैं उससे पिछली बार मिला था तब वह गुस्से में आकर पौटी बोलती थी और सभी उसे समझते थे कि यह अच्छा शब्द नहीं है.. उसका कहना होता था कि क्या पौटी लगने पर भी पौटी नहीं बोलना चाहिए? तब फिर से उसे समझाना पड़ता था कि जब पौटी लगे तभी पौटी बोलना चाहिए.. नहीं तो नहीं.. इस बार उसके मुह से एक बार भी किसी और के लिए पौटी शब्द नहीं सुना.. लगा शायद पहले से अधिक समझदार हो गई है..

फिर बात आई-गई हो गई.. २ घंटे कि नींद भी मैंने मार लिया.. और वह जो दिन में नहीं सोती है सो मामू के पास रहने के लालच में मेरे पास ही सो भी गई.. उसके पास खिलोने वाला घर भी है, जिसे वह हाउस कहती है.. उसके लिए छोटे-छोटे फर्नीचर भी हैं.. मुझसे जिद करके वह सारा फर्नीचर उस छोटे से घर में सजवाया गया.. मैंने भी बहुत जतन से उसे सजाया भी.. मगर उससे क्या होता है भला.. मैंने जिस काम के लिए आधे घंटे का समय लिया था उसे उसने बस आधे मिनट में ही तितर-बितर किया और फिर से मेरे पास लेती आई.. “मामू ये खराब हो गया.. फिर से सजा दो..”

रात में फिर से उसे मेरा टब याद आया.. “मामू, आपका टब बहुत बड़ा है?”
“हाँ..”
तभी किसी कमरे से अप्पू कि रोने कि आवाज आने लगी.. उसे इसमे भी एक नया सवाल मिल गया..
“मामू, जो बच्चे रोते हैं वो गंदे बच्चे होते हैं ना?”
“किसने बोला?”
“मिस ने..” शायद स्कूल वाले मिस कि बात हो..
“नहीं बेटू, जो बच्चे बिना बात के रोते हैं वो गंदे होते हैं..”
“तो जब मैं आकांक्षा को मारती हूँ और वह रोती है तब वह गन्दी बच्ची नहीं होती हूँ ना?”
मन ही मन में हंसी आ गई.. खुद बुरा काम करके आकांक्षा को अच्छी बच्ची साबित कर रही है.. मगर यह आकांक्षा है कौन? यह सवाल मन में आया मगर मैंने पूछा नहीं.. उसकी ही रौ में बहना अच्छा लग रहा था..
“लेकिन किसी को मारना बहुत बुरी बात होती है..” मैंने कहा..
“जो बच्चा किसी को मारता है उसे आप टब में नहीं नहाने देते हैं?”
“नहीं..”
“अब से मैं किसी को नहीं मारूंगी..” मगर मेरे चहरे पर सपाट भाव देख उसे लगा कि मैं उसकी बात पर भरोसा नहीं कर रहा हूँ.. “सच्ची मामू..” मुझे हर हाल में वह सहमत करना चाह रही थी..
“ठीक है.. फिर नहाने दूँगा..”

रात के खाने के बाद वह दीदी से जिद करने लगी कि मैं मामू के पास सोऊंगी.. दीदी उसे मन कर रही थी.. मैंने दीदी को बोला कि सोने दो आज.. दीदी का कहना था कि तुम्हारे साथ तो कोई बात नहीं है, मगर कोई बाहरी मेहमान आएगा तब भी ये जिद करने लगेगी.. इसकी आदत यही हो जायेगी.. मेरा कहना था कि एक दिन में कोई आदत नहीं लगेगी और उसे अपने पास सुला लिया..

अचानक से उसे फिर से उसका टब याद हो आया.. अब यह जादुई टब मेरा कहाँ रहा.. अब तो उसी का हो गया था.. उसे भरोसा हो गया था कि यह मेरा और उसका ज्वाइंट वेंचर है.. और हम दोनों जिसे चाहेंगे उसे ही उसमे नहाने देंगे.. बोली, “मामू, जो कच्छा बोलता है उसे भी नहीं नहाने दूँगी न?”
“नहीं”, मैंने कहा फिर पूछा, “कौन कच्छा बोलता है?”
“राहुल जो है ना, वो बोलता है..” अब राहुल कौन है भाई? मगर पूछा नहीं.. अगले दिन अहले सुबह वाली फ्लाईट कि याद आ गई.. और सोने कि जुगत में लग गया..

सुबह-सुबह उसे सोता ही छोड़ मैं घर से निकल गया.. चेन्नई उतरने के बाद दीदी को फोन लगाया तो पता चला कि मेरे जाने के १५ मिनट बाद ही उसकी नींद खुली और मुझे नहीं देख कर दीदी के पास गई.. लगभग रोने ही वाली थी कि दीदी उसे गले से लगा कर सुला दी.. सुबह उसे याद ही नहीं कि मामू आया था और चला गया.. स्कूल से आने के बाद अचानक से याद आने पर अपनी मम्मी के पास जाकर फूट-फूट कर रोने लगी कि मामू चला गया.. चुप होने से पहले वाली आखिरी सिसकी में बोली “मामू मुझे टब में भी नहीं नहाने दिया..” बाद में जब दीदी से टब के बारे में बताया टब दीदी बोली कि टब में पानी बहुत खर्च होता है सो इसे नहीं नहाने देते हैं.. इसलिए तुमसे बोल रही थी कि मुझे टब में नहाने दो..

अदिति अप्पू साथ-साथ. अदिति रूठी हुई है और अप्पू पीछे से उसके रूठने जैसी एक्टिंग करने कि कोशिश कर रही है.

Next Page »